Wednesday, 26 June 2019, 5:04 AM

धर्म कर्म

गरुड़ पुराण के अनुसार यह 5 काम कम कर सकते हैं आपकी उम्र

Updated on 23 April, 2019, 10:00
गरुड़ पुराण में ऐसे कामों के बारे में बताया गया है जिन्हें करने से आपके लिए परेशानी बढ़ सकती है। आपकी उम्र कम हो सकती है। जानिए कौन से 5 काम नहीं करना चाहिए वरना उम्र कम होने का खतरा बढ़ सकता है। 1. सुबह के समय शारीरिक संबंध बनाने से... आगे पढ़े

ऐसे 10 प्रकार के भोजन, जिन्हें करने से होगा गंभीर रोग और आ सकती है मौत

Updated on 23 April, 2019, 6:30
भोजन करने के हिन्दू शास्त्रों और आयुर्वेद में बहुत ही सोच-समझकर कुछ नियम बताए गए हैं। अन्न से ही रोग उत्पन्न होता है और अन्य से ही व्यक्ति निरोगी बनता है। आप चाहें तो इन्हें माने या ना माने। तो आओ जानते हैं कि क्या हैं ऐसे नियम जिन्हें नहीं... आगे पढ़े

जानें, क्या है आरती का महत्त्व

Updated on 21 April, 2019, 6:30
आरती के महत्व की चर्चा सर्वप्रथम “स्कन्द पुराण” में की गयी है। आरती हिन्दू धर्म की पूजा परंपरा का एक अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य है।किसी भी पूजा पाठ, यज्ञ, अनुष्ठान के अंत में देवी-देवताओं की आरती की जाती है। आरती की प्रक्रिया में, एक थाल में ज्योति और कुछ विशेष वस्तुएं रखकर... आगे पढ़े

जानें, दुनिया की सबसे पवित्र शिवलिंग की आराधना किस तरह की जाए

Updated on 21 April, 2019, 6:15
शिव लिंग को भगवान शिव का निराकार स्वरुप मना जाता है। शिव पूजा में इसकी सर्वाधिक मान्यता है। शिवलिंग में शिव और शक्ति दोनों ही समाहित होते हैं। शिवलिंग की उपासना करने से दोनों की ही उपासना सम्पूर्ण हो जाती है। विभिन्न प्रकार के शिव लिंगों की पूजा करने का प्रावधान... आगे पढ़े

जानें, ग्रहों से किस तरह प्रभावित होता है जीवन

Updated on 21 April, 2019, 6:00
चंद्रमा को मुख्य रूप से मन का ग्रह माना जाता है। इसके अलावा बुध भी बहुत हद तक मन को प्रभावित करता है। कर्क, वृश्चिक और मीन राशि का संबंध भी मन से ही होता है। कुंडली का चतुर्थ और पंचम भाव भी मन से संबंध रखता है। कभी-कभी तिथियों... आगे पढ़े

नानक प्याऊ गुरुद्वारे का है विशेष महत्व 

Updated on 18 April, 2019, 6:30
1505 में गुरुनानक जी पहली बार दिल्ली आए थे तब उन्होंने नानक प्याऊ गुरुद्वारा गुरुद्वारे की स्थापना की थी, इसीलिए ये गुरुद्वारा सिख समुदाय के लिए खासा महत्व रखता है। ये बहुत प्राचीन गुरुद्वारा है और दिल्ली का पहला गुरुद्वारा है।  इस गुरुद्वारे का नाम है नानक प्याऊ इसलिए पड़ा क्योकिं... आगे पढ़े

भगवान शिव के  रूद्र अवतार हैं हनुमान 

Updated on 18 April, 2019, 6:00
भगवान शि‍व को अनंत कहा गया है और हनुमान जी को इनका रूद्र अवतार माना गया है। शि‍व के हनुमान रूप में जन्म लेने की कथा इस प्रकार है। भगवान शिव भक्तों की पूजा से जल्द प्रसन्न होने वाले देव हैं और हर युग में अपने भक्तों की रक्षा के... आगे पढ़े

बस इन 5 बहुत ही सरल से काम कर पा सकते हैं बजरंगबली का आशीष

Updated on 16 April, 2019, 6:15
हनुमान जयंती चैत्र माह की पूर्णिमा को मनाई जाती है। इस दिन श्री हनुमानजी का जन्म हुआ है। अगर आप कठिन मंत्र या जटिल प्रयोग नहीं कर सकते हैं तो 5 सबसे सरल उपाय आपके लिए हैं। 1. हनुमान जयंती के दिन हनुमान जी के मंदिर जाएं और बजरंगबली का कोई... आगे पढ़े

भगवान सूर्य की सरल आरती : जय जय जय रविदेव

Updated on 15 April, 2019, 6:15
हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान सूर्य एकमात्र ऐसे देव हैं, जो साक्षात दिखाई पड़ते हैं। अत: सूर्यदेव के प्रातःकाल में दर्शन एवं उनकी आराधना शुभ फलदायी मानी गई है। मकर संक्रांति के अवसर पर यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है श्री सूर्य भगवान की आरती... श्री सूर्य देव की आरती जय जय... आगे पढ़े

जो राष्ट्र का मंगल करे, वही राम है

Updated on 13 April, 2019, 6:15
जिस युग में हम जी रहे हैं, वह बाजार की जकड़ में है। भौतिक वस्तुएं ही व्यक्ति को सब कुछ लगने लगी हैं। व्यक्ति ग्राहक मात्र होकर रह गया है, इसलिए कथा तो सिर्फ एक बहाना है। वास्तविकता में कथा के माध्यम से हर साधक से जागना है और संस्कारों... आगे पढ़े

आपकी किस्मत बदल देंगे श्रीरामचरित मानस के ये 5 विलक्षण मंत्र, रामनवमी तक अवश्‍य पढ़ें

Updated on 11 April, 2019, 6:15
* नवरात्रि से रामनवमी तक करें इन 5 दुर्लभ मंत्रों का जाप, बदल देंगे आपकी किस्मत हम पाठकों की सुविधा, समयाभाव एवं कालगत दोषों को दृष्टिगत रखकर नवरात्रि में स्मरण जप के लिए कुछ सरल प्रयोग-मंत्र दे रहे हैं।  नवरात्रि से राम नवमी तक विश्वास एवं निष्ठा के साथ इन्हीं मंत्रों से... आगे पढ़े

आपने नहीं पढ़ी होगी मां शेरावाली की यह पवित्र एवं पौराणिक कथा

Updated on 10 April, 2019, 6:30
'या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभिधीयते। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।'   कैलाश पर्वत के निवासी भगवान शिव की अर्धांगिनी मां सती पार्वती को ही शैलपुत्री‍, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायिनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री आदि नामों से जाना जाता है। इसके अलावा भी मां के अनेक नाम हैं जैसे दुर्गा, जगदंबा, अंबे, शेरांवाली आदि, लेकिन... आगे पढ़े

चैत्र नवरात्रि में इस मंत्र का 108 बार पाठ करने से मिलेगी मन के अनुरूप सुयोग्य पत्नी

Updated on 10 April, 2019, 6:15
आज के युग में सुलक्षणा, सुकन्या और सुशील पत्नी पाने की चाह किसे नहीं है। यदि कोई अविवाहित जातक ऐसी ही अर्धांगनी का स्वप्न देखता है तो उसे श्री दुर्गा जी का ध्यान करते हुए घी का दीपक जलाकर किसी एकांत स्थान में स्नान शुद्धि के उपरांत नित्य प्रातःकाल उपरोक्त... आगे पढ़े

माता के इस मंदिर में लगता है ढाई प्याला शराब का भोग, होते हैं चमत्कार

Updated on 9 April, 2019, 6:45
नवरात्र चल रहे हैं और हर घर में माता की पूजा और जयकारे लग रहे हैं। इस पावन पर्व पर भक्तजन मां के दर्शन के लिए मंदिर में जाते हैं और प्रसाद चढ़ाते हैं। हम आपको माता के एक ऐसे मंदिर के बारे में बताते हैं, जहां प्रसाद के रूप... आगे पढ़े

कैसे हुई कुंती की मृत्यु, जानिए 12 रहस्य चौंकाने वाले

Updated on 4 April, 2019, 6:30
कुंती एक अद्भुत महिला थीं। पति की मृत्यु के बाद कैसे उन्होंने अपने पुत्रों को हस्तिनापुर में दालिख करवाकर गुरु द्रोणाचार्य से शिक्षा दिलवाई और अंत में उन्हें राज्य का अधिकार दिलवाने के लिए प्रेरित किया यह सब जानना अद्भुत है। एक स्त्री की संघर्ष कहानी में द्रौपदी का नाम... आगे पढ़े

हवा, पवन, वायु, बयार...जानिए इसके 7 आश्चर्यजनक प्रकार

Updated on 4 April, 2019, 6:15
अभी तक विज्ञान जिसे जान रहा है और जिसे नहीं जानता है वेदों और पुराणों में उसके बारे में विस्तार से मिलता है। हिन्दू धर्म में प्रकृति के हर रहस्य का खुलासा किया गया है। प्रकृति के इन प्रत्येक तत्वों का एक देवता नियुक्त किया गया है। तत्वों के कार्य... आगे पढ़े

1 मई तक शनि मार्गी, 2 राशियों के लिए हैं बहुत भारी, कहीं वह आपकी राशि तो नहीं

Updated on 3 April, 2019, 6:30
शनि 1 मई 2019 तक मार्गी रहेंगे। शनि के मार्गी होने से मकर राशि पर साढ़े साती शुरू हो चुका है जबकि तुला राशि वालों पर शनि की छाया समाप्त हो रही है। शनि की सीधी चाल से कई राशियों का फायदा मिल सकता है जबकि कुछ राशियों की मुश्किलें... आगे पढ़े

जब नए घर में कर रहे हों प्रवेश, तो इन 20 बातों का ध्यान रखें विशेष

Updated on 1 April, 2019, 6:45
घर चाहे स्वयं का बनाया हो या फिर किराये का। जब हम प्रवेश करते हैं तो नई आशा, नए सपने, नई उमंग स्वाभाविक रूप से मन में हिलोर लेती है। नया घर हमारे लिए मंगलमयी हो, प्रगतिकारक हो, यश, सुख, समृद्धि और सौभाग्य की सौगात दें यही कामना होती है।... आगे पढ़े

इन 10 पवित्र परंपराओं का रहस्य है खास, जान लीजिए आज

Updated on 1 April, 2019, 6:30
हिन्दू धर्म में पूजा के समय कुछ बातें अनिवार्य मानी गई है। जैसे प्रसाद, मंत्र, स्वास्तिक, कलश, आचमन, तुलसी, मांग में सिंदूर, संकल्प, शंखनाद और चरण स्पर्श। आइए जानते हैं इनका क्या पौराणिक महत्व है- प्रसाद क्यों चढ़ाया जाता है? गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा- हे मनुष्य! तू जो भी खाता... आगे पढ़े

इस वर्ष आपकी बिटिया बन जाएगी दुल्हन, पढ़ें विशेष उपाय

Updated on 1 April, 2019, 6:15
बेटी जैसे ही विवाह योग्य होने लगती है माता-पिता चिंतित होने लगते हैं। सुयोग्य वर की तलाश में उनकी कोशिशें तेज होने लगती है। समस्त प्रयासों के साथ इन उपायों को भी आजमाएं सफलता अवश्य मिलेगी। - गुरुवार को विष्णु-लक्ष्मी जी के मंदिर में जा कर विष्णु जी को मोढ़ यानी... आगे पढ़े

बेटियों की सेहत और सुरक्षा के लिए फेंगशुई के 'वू लू' रखें घर में

Updated on 1 April, 2019, 6:00
फेंगशुई में घर के हर कोने के लिए कुछ विशेष आइटम है। घर के हर शख्स का इस विधा में पूरा ध्यान रखा गया है। वू लू बेटियों की बेहतर सेहत और लंबी उम्र के लिहाज से बनाया गया है। लोटे के आकार वाला यह पात्र पुरातन काल में यात्राओं के... आगे पढ़े

लाल मिर्च के यह चार उपाय, हर बाधा को दूर भगाए, जाने-अनजाने हर संकट से बचाए

Updated on 31 March, 2019, 6:45
लाल मिर्च का जितना उपयोग खाने में किया जाता है लगभग उतना ही तंत्र, नजर, टोटके और क्रियाओं में किया जाता है। आइए जानते हैं लाल मिर्च के चार ऐसे ही सटीक उपाय, जो आपको हर विपदा से बचाएंगे... एक कपड़े में पांच सूखे लाल मिर्च को बांधकर अपने बिस्तर के... आगे पढ़े

नवग्रहों के दोष को कीजिए दूर, जानिए 9 बीज मंत्र और विधि...

Updated on 31 March, 2019, 6:15
नवग्रह न केवल जातक के भविष्य का निर्धारण करते हैं बल्‍कि जातक के जीवन में अच्छे और बुरे का पल-प्रतिपल आदान-प्रदान भी करते हैं। ग्रह जातक के पूर्व कृत कर्म के आधार पर रोग, शोक, और सुख, ऐश्वर्य का भी प्रबंध करते हैं। पीड़ित जातक को चाहिए कि वह पीड़ित ग्रह... आगे पढ़े

रविवार को पहनें सूर्य का खूबसूरत रत्न माणि‍क,जानिए क्यों व किसके साथ पहनें?

Updated on 31 March, 2019, 6:00
माणिक सब रत्नों का राजा माना गया है। कहने का मतलब यह रत्न अनमोल है। यह रत्न सूर्य ग्रह का प्रतिनिधित्व करता है और इसे सूर्य के कमजोर व पत्रिकानुसार स्थिति जानकर इस रत्न को धारण करने का विधान है। इसके बारे में एक धारणा यह है कि माणिक की... आगे पढ़े

मंत्रों की तरंगें चारों तरफ फैल जाती हैं और लाती हैं शुभता... जानिए मंत्रों का रहस्य

Updated on 30 March, 2019, 6:45
मंत्र शब्दों का एक खास क्रम है जो उच्चारित होने पर एक खास किस्म का स्पंदन पैदा करते हैं, जो हमें हमारे द्वारा उन स्पंदनों को ग्रहण करने की विशिष्ट क्षमता के अनुरूप ही प्रभावित करते हैं। हमारे कान शब्दों के कुछ खास किस्म की तरंगों को ही सुन पाते... आगे पढ़े

आपने नहीं पढ़ी होगी गणगौर माता की यह अनूठी कहानी, देती है सदा सुहागिन का वरदान

Updated on 30 March, 2019, 6:30
एक बार भगवान शंकर तथा पार्वतीजी नारदजी के साथ भ्रमण को निकले। चलते-चलते वे चैत्र शुक्ल तृतीया के दिन एक गांव में पहुंच गए। उनके आगमन का समाचार सुनकर गांव की श्रेष्ठ कुलीन स्त्रियां उनके स्वागत के लिए स्वादिष्ट भोजन बनाने लगीं। भोजन बनाते-बनाते उन्हें काफी विलंब हो गया। किंतु... आगे पढ़े

इन 10 तरीकों से करें हनुमानजी की सेवा, हर संकट मिटेगा और मिलेगा अपार सुख

Updated on 30 March, 2019, 6:15
कलिकाल में हनुमानजी की भक्ति ही कही गई है। हनुमानजी की निरंतर भक्त करने से भूत पिशाच, शनि और ग्रह बाधा, रोग और शोक, कोर्ट-कचहरी-जेल बंधन से मुक्ति, मारण-सम्मोहन-उच्चाटन, घटना-दुर्घटना से बचना, मंगल दोष, कर्ज से मुक्ति, बेरोजगार और तनाव या चिंता से मुक्ति मिल जाती है। हनुमानजी सर्वशक्तिमान और सर्वोच्च... आगे पढ़े

आरती के बाद क्यों बोला जाता है कर्पूर मंत्र?

Updated on 30 March, 2019, 6:00
किसी भी मंदिर में या हमारे घर में जब भी पूजन कर्म होते हैं तो वहां कुछ मंत्रों का जप अनिवार्य रूप से किया जाता है। सभी देवी-देवताओं के मंत्र अलग-अलग हैं, लेकिन जब भी आरती पूर्ण होती है तो यह मंत्र विशेष रूप से बोला जाता है- कर्पूरगौरं मंत्र कर्पूरगौरं करुणावतारं... आगे पढ़े

जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव का जन्मकल्याणक दिवस

Updated on 29 March, 2019, 6:30
जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ का जन्म चैत्र कृष्ण नौवीं के दिन सूर्योदय के समय हुआ। उन्हें ऋषभदेव जी, ऋषभनाथ भी कहा जाता है। ऋषभदेव आदिनाथ भगवान का जन्म युग के आदि में राजा नाभिराय जी के यहां पर माता मरूदेवी की कोख में हुआ था। उन्हें जन्म... आगे पढ़े

भगवान ऋषभदेव के 10 रहस्य, हर हिन्दू को जानना जरूरी

Updated on 28 March, 2019, 6:00
जैन और हिन्दू दो अलग-अलग धर्म हैं, लेकिन दोनों ही एक ही कुल और खानदान से जन्मे धर्म हैं। भगवान ऋषभदेव स्वायंभुव मनु से 5वीं पीढ़ी में इस क्रम में हुए- स्वायंभुव मनु, प्रियव्रत, अग्नीन्ध्र, नाभि और फिर ऋषभ। जैन धर्म में 24 तीर्थंकर हुए हैं। 24 तीर्थंकरों में से... आगे पढ़े

Web Counter